Latest News & Article
 

समलेंगिकता के बाज़ार का काला कुचक्र - अनुज अग्रवाल

Source : 1   On   10 Sep 2018
Home   >   All Articles  >   समलेंगिकता के बाज़ार का काला कुचक्र - अनुज अग्रवाल
 
 
 
article

अब चूंकि समलेंगिकता को भारत मे कानूनी मान्यता मिल गयी है ऐसे में सोशल मीडिया पर इसका समर्थन करते हजारों वीडियो,यूट्यूब लिंक, फ़ोटो व पोस्ट आनी शुरू हो जाएंगी। नई पीढ़ी इनकी ओर आकर्षित होकर समलैंगिक संबंधों की ओर बढ़ने लगेगी। बाजारू ताकते इनको अब अपने अधिकारों के लिए उकसाने लगेंगी। शादी, बच्चे , संपत्ति व बीमे आदि के हक़ के कानूनों की मांग उठने लगेंगीं। कुछ एनजीओ इनके समर्थन के लिए आगे आने लगेंगी। मीडिया में इनके अधिकारों के लिए नई बहस, आंदोलन व पीआईएल के खेल शुरू होते जाएंगे। अगले कुछ ही बर्षों में कुछ लाख लोगों का भारतीय समलैंगिक समुदाय कुछ करोड़ तक पहुंचा दिया जाएगा और ये एक बड़े वोट बैंक में बदल जाएंगे। ऐसे में कोई भी राजनीतिक दल इनके साथ खड़ा होने में नहीं हिचकेगा।